Saturday, November 28, 2020

आईपीएल २०२० में तीन जगह पर ६० मैचो का भार विकेटो के मिजाज पर बड़ा फर्क डालेगा। यूएई की पिच पहले से ही धीमी विकेट के लिए जानी जाती है। जैसे जैसे टूर्नामेंट आगे बढ़ेगा वैसे वैसे विकेट और धीमे होते जायेंगे। इसका फायदा स्पिनरों को और धीमे गेदबाजो को मिलेगा।

गेंद मनमाफिक अंदाज में बल्लेबाजो के बेट पर नहीं आ पायेगी। ऐसे में ग्राउंड्समैन का काम बेहद चुनौतीपूर्ण होगा। बीसीसीआईके पूर्व चीफ दलजीत सिंह मानते है की दुबई,शारजाह और अबुधाबी के विकेट धीमे रहते है। शुरुआत में काफी रन बनेगे बाद में विकेट धीमे होते जायेंगे।

टूर्नामेंट काफी बड़ा है और पिचें कम है। ऐसे में पिच की देखभाल कैसे की जाती है और रोलर का उपयोग किस तरह से किया जाता है इससे काफी फर्क पड़ेगा भारी रोलर का उपयोग करने के बाद विकेट काफी धीमा हो जायेगा। दुबई में २४ मैच होंगे।

२०१४ की आईपीएल में यूएई में २० मुकाबले हुए थे जिसमे दो बार २०० ,नौ बार १९० और १२ में १६० से ऊपर का स्कोर बना था। दुबई में हुए सात मैचो में एक में भी दो सौ का स्कोर नहीं बना। इस बार दुबई में २४ मैच होने है। अबुधाबी में २०१४ में सात मैच हुए थे। पंजाब और चेन्नई में हुए दोनों मैच में टीमों ने दो सौ से ऊपर स्कोर खड़ा किया था जिसमे पंजाब जीता था। इस बार यहाँ २० मैच होने है। शारजाह में ६ मैच हुए थे और दो में १९० से ऊपर स्कोर बने थे।

 

 

Related Article